Adolf hitler se Related kuch Interesting Fact

Amazing Adolf
Hitler Facts

एडोल्फ हिटलर (Adolf Hitler) का नाम पूरी दुनिया की सबसे विवादित शख्सियत एवं तानाशाहों में लिया जाता है, जिन्होंने अपनी सनक के कारण लाखों लोगों को मरवा दिया एवं दुनिया को युद्ध की आग में झोक दिया| कुछ लोग कहते हैं कि हिटलर (Hitler) के बारे में बहुत बातें हो चुकी है तथा इसके बारे में जानना कुछ भी बाकी नहीं रहा लेकिन हिटलर (Hitler) अपने अपने आप में एक ऐसी अजीबो-गरीब शख्सियत थी कि इसके बारे में जितना जानते हैं जाते हैं


उतना ही उतनी ही नई-नई बातें सामने

निकल कर आती है | इसी कड़ी में हम

लाए हैं आपके लिए हिटलर (Hitler) से जुड़े

हुए कुछ ऐसे तथ्य लाए, जिन्हें आप अभी

तक नहीं जानते तथा उनके बारे में अभी

तक ज्यादा बात भी नहीं की गयी है,

तो आइए जानते हैं हिटलर (Hitler) के कुछ

ऐसे ही विचित्र रोचक तथ्यों के बारे में |

अडोल्फ़ हिटलर की

कुछ अनकही अनसुनी

बातें | Amazing Adolf

Hitler Facts :

 1. अपना खुद का नोबेल प्राइज 

आपको जानकर हैरानी होगी कि सन

1937 में हिटलर (Hitler) ने नाजियों के

लिए खुद का एक नोबेल प्राइज बनाया

था जिसे ऑफिशियली लागू भी किया

गया तथा इससे “जर्मन नेशनल प्राइज फॉर

आर्ट एंड साइंस” का नाम दिया गया | इस

प्रकार को हासिल करने वाली सबसे

मस्त मशहूर शख्सियतों में से एक

‘Ferdinand Porsche’ थे जो जिन्होंने

आगे चलकर ‘बॉक्सवैगन बीटल कार’ का

निर्माण किया था |

2. एफिल टावर पर चढ़ना
फ्रांस की सबसे यादगार एवं महत्वपूर्ण
इमारत एफिल टॉवर ही है और जब दुसरे

विश्वयुद्ध के दौरान जर्मनी ने फ्रांस पर

विजय हासिल की तो हिटलर (Hitler) ने

निश्चय किया कि वह फ्रांस की

राजधानी जाएंगे तथा इस अजूबे की सबसे

ऊंची चोटी तक भी चढ़ेंगे | लेकिन फ्रांस

में स्थित विद्रोहियों ने भी ठान लिया

था कि वह एफिल टावर की लिफ्ट की

तार ही काट देंगे और ऊपर तक जाने के

लिए 1700 सीढ़ियां होने के कारण

हिटलर (Hitler) नहीं जा पाएगा और

ऐसा ही हुआ हिटलर ने एफिल टावर के

सामने खड़े होकर फोटो खिंचवाई,

जबकि वह उसमें वास्तविक रूप में चढ़ा

नहीं था |

3. यहूदीयों की कलाकृतियों को
सहेजना

हिटलर (Hitler) यहुदीयों से बहुत नफरत

करता था, तथा यह बात लगभग हर किसी

को ज्ञात है लेकिन बहुत ही कम लोग हैं

जिनको यह पता है कि हिटलर (Hitler),

यहूदीयो की कलाकृतियां इकट्ठी करता

था | वास्तव में इसका उद्देश्य था कि

जब वह यहुदीयों को समाप्त कर देगा तब

उनकी याद में एक म्यूजियम बनाया

जाएगा |

4. फुटबॉल से नफरत

हिटलर फुटबॉल से नफरत करता था, लेकिन किसी को भी इसका कोई कारण पता नहीं था | वह फुटबॉल के होने वाले कार्यक्रमों में भी कभी नहीं गया था |

5. हिटलर का नाम

हिटलर (Hitler) का आखरी नाम हिटलर नहीं था, वास्तव में हिटलर के पिता ने अपना आखरी नाम “Schicklgruber” से बदलकर हिटलर किया था | अब आप समझ सकते हैं कि कितना मुश्किल होता कि अगर नाजी संघठन हिटलर का नाम “Schicklgruber” बोलते

6.यहूदी डॉक्टर Eduard Bloch

हिटलर यहूदियों से बेइंतहा नफरत करता

था, लेकिन इनमें भी एक ऐसा यहूदी था,

जिससे हिटलर ने कभी भी नफरत नहीं

की और इस यहूदी डॉक्टर का नाम था

“एडुअर्ड ब्लोच” | जब हिटलर बहुत छोटा

था तब उसके परिवार के पास इतने पैसे

नहीं थे वह एक डॉक्टर के इलाज के भी पैसे

चुका सके, तब इसी यहूदी डॉक्टर ने उनकी

तथा उसके परिवार की मदद की और अपने

किसी भी इलाज और सेवा के बदले कोई

भी पैसा नहीं लिया | बाद में नाजियों

की सरकार जर्मनी में आई तो इस डॉक्टर

को नाजियो ने नाम दिया ‘Nobel Jew’

|7. हिटलर की मूंछ

हिटलर की मूछों के बारे में भी बहुत सी

कहानियां प्रचलित है, दूसरे विश्व युद्ध के

दौरान हिटलर अपनी बड़ी रोबदार मूंछे

रखता था | जिससे बाद में काट कर

छोटा करवा दिया गया, इसके बारे में

हिटलर कहां करता था कि नई मुझे ई मूछों

के कारण उसे गैस मास्क पहनने में आसानी

होती है, लेकिन कुछ अन्य लोग बताते हैं

कि हिटलर ने नया स्टाइल इसलिए चुना

क्योंकि वह अपनी नाक को छोटा

दिखाना चाहता था |

8. Geli Raubal (हिटलर की
भांजी)

Geli Raubal, जो हिटलर की भांजी

थी, म्यूनिख में हिटलर के अपार्टमेंट में ही

रहती थी और मेडिकल की पढ़ाई कर रही

थी | बाद में हिटलर ने अफवाह सुनी की

Geli Raubal हिटलर के ड्राइवर के साथ

रोमांस फरमा आ रही है, यह सुनते ही

हिटलर ने Geli Raubal पर अपने ड्राइवर से

मिलने जुलने तथा उसके साथ कहीं भी देखे

जाने पर प्रतिबंध लगा दिया और उसके

कुछ ही समय बाद Geli Raubal ने खुद को

हिटलर की बंदूक से ही गोली मारकर

आत्महत्या कर ली |

9. फाइन आर्ट का शौकीन

हिटलर को लोग आमतौर पर एक क्रुर

तानाशाह मानते हैं लेकिन हिटलर को

कला से भी बहुत प्रेम था | यहां तक कि

इसने विएना की यूनिवर्सिटीज में आर्ट

में अपना कैरियर बनाने के लिए भी

अप्लाई भी किया था | लेकिन बाद में

विएना की फाइन आर्ट अकैडमी में इसे

रिजेक्ट कर दिया और इस तरह दुनिया

को हिटलर मिला |

10. हिटलर को दफनाना

हिटलर का शरीर करीब चार बार

दफनाया गया था और अब एक बार तो

इसकी बची कुछ हड्डियां और शरीर हवा

में फैंक भी दिया गया था |

 

73 total views, 1 views today